पांच लोगों के साथ मुहर्रम जुलूस निकाले जाने की अनुमति वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने ये कहा….

0

[su_note note_color=”#f82e38″ text_color=”#fdfefd” radius=”0″]पांच लोगों के साथ मुहर्रम जुलूस निकाले जाने की अनुमति वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने ये कहा….[/su_note]

MIRROR MEDIA : मुहर्रम जुलूस निकाले जाने की अनुमति वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई कीl जिसमें वैश्विक महामारी कोरोना काल में सिर्फ 5 लोगों के साथ मुहर्रम का सार्वजनिक जुलूस निकालने पर गौर किया गयाl हालांकि फिलहाल 5 लोगों के साथ मुहर्रम का जुलूस निकालने की परमिशन नहीं दी हैl  इस बाबत सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को कहा कि मुहर्रम जुलूस पूरे देश में जगह-जगह निकलेगा, इसलिए हर राज्य सरकार की मंज़ूरी या उनका पक्ष सुनना जरूरी हैl कोर्ट ने कहा कि वो अपनी याचिका में 28 राज्य की सरकारों को भी वादी बनाएं, जिसके बाद सुनवाई होगीl

[su_service title=”इसे भी पढ़े….” icon=”https://mirrormedianews.com/wp-content/uploads/2020/07/512MM.png” icon_color=”#23f5e0″ size=”26″][/su_service]

[su_posts template=”templates/teaser-loop.php” posts_per_page=”2″ tax_operator=”AND” offset=”2″ order=”desc” orderby=”modified” ignore_sticky_posts=”yes”]

आपको बता दें कि मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यन की बेंच ने याचिकाकर्ता के वकील वासी हैदर से कहा कि वह अपनी याचिका में 28 राज्यों को पार्टी बनाएं और केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को निर्देश देने की मांग करेंl जिसमें जुलूस को केवल एक सीमित क्षमता में होने दिया जाएl यानी केवल 5 लोग जुलूस में शामिल रहेंl

[su_service title=”इसे भी पढ़े….” icon=”https://mirrormedianews.com/wp-content/uploads/2020/07/512MM.png” icon_color=”#23f5e0″ size=”26″][/su_service]

[su_posts template=”templates/teaser-loop.php” posts_per_page=”2″ tax_operator=”AND” offset=”2″ order=”desc” orderby=”modified” ignore_sticky_posts=”yes”]

सीजेआई बोबडे ने हालांकि किसी भी आदेश को पारित करने से इनकार कर दिया, लेकिन कहा कि 28 राज्यों और संघ को याचिका में निहित नहीं किया गया हैl वह कोई भी आदेश को पारित करने से पहले उन्हें पहले सुनना चाहेंगेl सीजेआई ने यह भी कहा कि अभी हाल ही में, उन्होंने लोगों को दादर, बायकला और चेंबूर के मंदिरों में एक सीमित क्षमता में प्रार्थना समारोह में प्रार्थना करने की अनुमति दी थी, लेकिन ऐसा इसलिए भी था क्योंकि महाराष्ट्र और संघ राज्य पीठ के समक्ष थेl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here