नकाबपोश अपराधीयों ने घर मे घुसकर अपाहिज बेटा और मां को पिस्टल भिड़ा पुछने लगे कहाँ रखा है माल। माँ के शोर मचाने और पड़ोसी के आवाज सुन सब छोड़ कर भागे

0

लोयाबाद :- लोयाबाद में शाम ढलते ही दो नकाबपोश अपराधीयों ने घर मे घुसकर अपाहिज बेटा और मां को पिस्टल भिड़ा दिया। मां को पीटा भी और बेटे की छाती पर पांव रखकर सेलो टेप से मुंह बंद करने की कोशिश की गई। मां का गला दबाकर कहा बताओ माल कहाँ रखा है। घटना शाम 8,30 बजे लोयाबाद दुर्गामंदिर कॉलोनी आरएन सिंह के यहां घटी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची और पड़ताल कर रही है। घर वाले ने कहा लूट या फिर दुश्मनी दोनो इरादे से अपराधी आया था, बेटे नवीन ने कहा की नाली विवाद भी चल रहा है। मांँ मालती देवी ने कहा कि जब दोनो अपराधी अंदर घुसा तब मैं बेटा नवीन सिंह के पास बैठकर आटा गूंध रही थी। तभी दोनो मुंह में कपड़ा बांधे हुए अंदर घुस गया और मां और बेटा दोनो के गले मे पिस्टल भिड़ा दिया।बोला शोर मचाया तो जान मार देंगे,फिर भी मालती देवी शोर मचाने लगी,तो अपराधी मारपीट करने लगा,हाथ से गला दबाने लगा,और बेटा नवीन को मुंह मे सेलो टेप चिपकाने लगा,ताकि शोर बाहर न जा सके,करीब 10 मिनट तक अपराधी दोनो को बस में करने की कोशिश करने लगा,लेकिन तबतक पड़ोसी को भनक लग गई।पड़ोसी जब आवाज़ दिया तो दोनो भागने में ही भलाई समझे। जाते जाते अपराधी का एक गमछी,सेलो टेप,हैंड ग्लप्स छोड़ कर भागा। पुलिस स्नेफर डॉग मंगाने की तैयारी कर रही है। साथ पूरे क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया जा रहा है। 65 वर्षीय मालती देवी अपने एक अपाहिज़ बेटे के साथ अकेली रहती है। बेटा कई वर्षों से अपंग है,वह बेड से उठ नही पाता है। पति आरएन सिंह का एक साल पहले बीमारी के वजह से मौत हो चुकी है। घटना से मां और बेटा दोनो काफी डरा हुआ है।दोनो पुलिस से सुरक्षा की मांग कर रहा है।साथ ही जल्द से जल्द मामले से पर्दा उठाने की मांग भी किया है।थाना प्रभारी विकास कुमार यादव ने कहा कि जांच की जा रही है।जांच के बाद ही कुछ भी कहा जा सकता है।वैसे सर्च अभियान चलाया जा रहा है। स्नेफर डॉग मंगाया जा रहा है।पुलिस दो बिंदु को लेकर जांच कर रही है।लूट या दुश्मनी दोनो हो सकती है।

दोनो दिन पहले यहां के तीन कुत्ते को जहर दे देकर एक साथ मार दिया गया था,अब यह घटना से लोगो को लग रहा है कि कोई साजिश के तहत कुत्ते को मारा है।लोगो की माने तो तीनों कुत्ते किसी अनजान को देखकर खूब भौंकता था,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here