सीमा पर तनाव: भारत ने पश्चिमी मोर्चे पर तैनात किए स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस

0
मिरर मीडिया: चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में चल रहे गतिरोध के बीच भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा के साथ पश्चिमी मोर्चे पर हवाई सुरक्षा को और मजबूती देने के लिए देश में बने हल्के लड़ाकू विमान तेजस तैनात किए हैं। पाकिस्तान सीमा से लगे वेस्टर्न फ्रंट पर हल्के लड़ाकू विमान तेजस को तैनात किया गया है। बता दें कि, तेजस अनेक भूमिकाओं को निभाने में सक्षम एक हल्का लड़ाकू विमान है।
सूत्रों के मुताबिक हल्के लड़ाकू विमान तेजस को भारतीय वायुसेना द्वारा पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तानी सीमा के करीब तैनात किया गया हैl ताकि वहां से होने वाली किसी भी संभावित कार्रवाई पर निगरानी रखी जा सकेl वहीँ इसके साथ ही दक्षिणी वायु कमान के तहत सुलूर एयरबेस से बाहर पहले LCA तेजस स्क्वाड्रन, 45 स्क्वाड्रन (फ्लाइंग डैगर्स) को ऑपरेशनल भूमिका में तैनात किया गया हैl
आपको बता दें कि बीते स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान स्वदेशी तेजस विमान की प्रशंसा की थी और कहा था कि एलसीए मार्क1ए वर्जन को खरीदने का सौदा जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है।चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच ...बता दें कि विमानों का पहला स्क्वाड्रन इनिशियल ऑपरेशनल क्लीयरेंस वर्जन का है, वहीं दूसरा 18 स्क्वाड्रन ‘फ्लाइंग बुलेट्स’ अंतिम ऑपरेशनल क्लीयरेंस वर्जन का है और इसका संचालन भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने 27 मई को सुलूर एयरबेस में किया था। भारतीय वायु सेना और रक्षा मंत्रालय को इस वर्ष के अंत तक 83 Mark1A विमानों के लिए सौदे को अंतिम रूप देने की उम्मीद है।
सीमाओं पर चीनी आक्रमण के मद्देनजर भारतीय वायुसेना ने अपने हथियारों को चीन और पाकिस्तान दोनों सीमाओं पर तैनात किया है। बल के फॉरवर्ड एयरबेसों को पश्चिमी और उत्तरी मोर्चों पर विषम परिस्थितियों से निपटने के लिए तैयार किया गया है। हाल के दिनों में इन एयरबेसों पर व्यापक उड़ान संचालन देखा गया है, यहां दिन और रात में हवाई अभियान चलाए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here